Poetry

मुस्कुराना आ गया By Deepshikha Maheshwari

जख्म समेटे इतने
हर जख्म पर मुस्कुराना आ गया।

वार इतने किए जमाने ने,
मुझको भी खंजर चलाना आ गया।
वक्त के हर सबक से वाकिफ हो गए,
दुनिया की जिल्लतों से खुद को बचाना आ गया।

दीपशिखा माहेश्वरी

Related Articles

79 thoughts on “मुस्कुराना आ गया By Deepshikha Maheshwari”

  1. For example, it will often make sense for someone earning $50,000 a year without a large portfolio [url=http://www.investissementporteur.com/comment-choisir-sa-plateforme-de-change-bitcoin]meilleure plateforme bitcoin[/url] to forgo an investment advisor altogether,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Enter Captcha Here : *

Reload Image

Close