Poetry

पापा की परी By Sapna

Sahityam pays tribute to Fatherhood

 

जब मैं जन्मी थी, आपके सशक्त हाथो के स्पर्श ने मुझमें सरंक्षण का भाव जगाया,प्यार भरी अनजान सी मुस्कान दे कर मैंने भी आपको अपना हीरो बनाया।

नाजुक पैरो से जब चलना सीखा,गिरते -गिरते तुमने ही बचाया,थाम कर मेरे नन्हे-नन्हे कोमल उँगलियों को कदम से कदम मिला कर चलना तुमने सिखाया।

माँ ने गोद में बिठाकर सारे जहां की कहानी सुनाई,तुमने भी तो कंधे पर बैठकर ,रानी बिटिया बनाकर सारा जहा दिखाया।

कभी जो मैं रो देती,तो खुद jokar बनकर मुझे हँसाया, जब माँ कभी डांट लगती तो पिता को हमेशा अपने पाले में पाया।

इन नन्हे-नन्हे हाथों में पेंसिल पकड़ना सिखाया, जब कभी रूठ जाती तो गुड़िया,टॉफी देकर मुझे मनाया ,समय समय पर अच्छे – बुरे में भेद समझाया।

जो गलती नही की उसके लिए लोगों ने मुझ पर उंगली उठाई,तब तुमने ही तो मुझे समझा और प्यार से गले लगाया,कंधे पर हाथ रखकर मुझे सशक्त बनाया,जिंदगी जीने का एक नया मार्ग दिखाया ,यू ही नहीं कहती आप मेरे हीरो हो,हीरो जैसा हुनर आपमे पाया।

सोचती हूँ क्या आपके लिए इतना कुछ कर पाऊँगी? अंतरमन से आवाज़ आई-नहीं,पिता बन कर ही पिता के जज़्बात और प्यार को जान पाऊँगी ,फ़िलहाल पिता की परी बन कर ही सुख पाओगी।

(सपना )

Related Articles

51 thoughts on “पापा की परी By Sapna”

  1. wh0cd245874 [url=http://levitraonline.doctor/]levitra online[/url] [url=http://buyazithromycin.doctor/]azithromycin doxycycline[/url] [url=http://cheapdoxycycline.doctor/]cheap doxycycline[/url] [url=http://genericsildenafil.doctor/]sildenafil for sale[/url] [url=http://buybetnovate.doctor/]betnovate[/url]

  2. wh0cd245874 [url=http://genericstromectol.doctor/]stromectol[/url] [url=http://genericpropecia.doctor/]generic propecia[/url] [url=http://buycolchicine.doctor/]colchicine[/url] [url=http://buycefixime.doctor/]cefixime tablets[/url] [url=http://buyantabuse.doctor/]antabuse[/url] [url=http://buypaxil.doctor/]buy paxil[/url] [url=http://buyavana.doctor/]generic avana[/url] [url=http://vantin.doctor/]vantin[/url] [url=http://buytadalafil.doctor/]tadalafil[/url] [url=http://buyplavix.doctor/]plavix generic available[/url]

  3. cddedzxeqo New Yeezy,If you want a hassle free movies downloading then you must need an app like showbox which may provide best ever user friendly interface.

  4. acwcnzvmx,A fascinating discussion is definitely worth comment. I do think that you ought to publish more on this topic, it may not be a taboo hshxuubnydp,subject but generally folks don’t talk about such subjects. To the next! All the best!!

  5. Villagers with poor economic conditions at home can only choose “private rooms” to make up for the time being. However, after the house was finished, it would make the dilapidated house worse. In the winter, the local minimum temperature is below 30 degrees, and the cold north wind will blow into the room from the gap created by the “private room”. In order to keep out the wind, the window had to be pasted with plastic sheets.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Enter Captcha Here : *

Reload Image

Close