Poetry

वो कहती By Ashok Sapra

वो कहती लिख मेरी जिंदगी पर चढ़ाव उतार
इन आँखों से पूछ मेरा जिस्म है कि शहे निगार

बचा के रखा था आज तक तेरे लिए खुद को
मेरी हुस्ने जवानी करती सनम तेरी ही पुकार

कुछ होता था दिल को तुझे देखकर महसूस
तमाम गुंचा खिला हुआ दिल हुआ है गुलजार

बदन से सर तक तलक मैं ऐसी लगती थी कि
आईने की जरूरत नहीं तेरी आँखों से करूँ दीदार

मेरी जैसे पिछले जन्म से मुलाकात थी तुझसे
एक यही राज की बात करती हूँ तुझसे स्वीकार

हल्की हल्की बरसात में आज मचल गया ये दिल
शिव दिल की बात सुन कर प्रेम का तू भी इज़हार

लब पर दुआ आये साथी दर्द देने वाला मेरा हो
उसकी पैगामे इश्क पर लिख दूँ मैं भी अशआर

अशोक सपड़ा हमदर्द

Related Articles

28 thoughts on “वो कहती By Ashok Sapra”

  1. That is very fascinating, You are an excessively professional blogger.
    I’ve joined your feed and stay up for seeking more of your wonderful post.

    Also, I have shared your site in my social networks

  2. Thank you a lot for giving everyone an exceptionally marvellous opportunity to read from this web site. It really is so great plus packed with amusement for me and my office fellow workers to visit the blog the equivalent of thrice in one week to read through the newest secrets you have. And of course, I’m just always happy with the astonishing guidelines you give. Some two tips in this posting are undoubtedly the most suitable we’ve had.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Enter Captcha Here : *

Reload Image

Close